Tuesday, May 24, 2016

Published 1:26 PM by with 5 comments

तुम्हारी प्यारी सी नज़र अगर इधर नहीं होती


तुम्हारी प्यारी सी नज़र अगर इधर नहीं होती,
नशे में चूर फ़िज़ा इस कदर नहीं होती,
तुम्हारे आने तलक हम को होश रहता है,
फिर उसके बाद हमें कुछ ख़बर नहीं होती.





सपनों की मंज़िल पास नहीं होती,
ज़िंदगी हर पल उदास नहीं होती,
ख़ुदा पे यकीन रखना मेरे दोस्त,
कभी-कभी वो भी मिल जाता है जिसकी आस नही होती.

      edit

5 comments:

Post a Comment