Tuesday, June 16, 2015

Published 6:54 AM by with 2 comments

तकलीफें



तकलीफें तो हज़ारों हैं इस ज़माने में,
बस कोई अपना नज़र अंदाज़ करे तो बर्दाश्त नहीं होता !!
      edit

2 comments:

Post a Comment