Tuesday, June 16, 2015

Published 7:05 AM by with 2 comments

Intezaar




होंठ कह नही पाते जो **
अफ़साना दिल का **

शायद नजरो से वो बात हो जाऐ
बस इसी उमीद से करते है इंतज़ार रात का **
      edit

2 comments:

Post a Comment