Monday, June 1, 2015

Published 4:38 PM by with 2 comments

Khamoshi




























जब खामोश आँखो से बात होती है
ऐसे ही मोहब्बत की शुरुआत होती है
तुम्हारे ही ख़यालो में खोए रहते हैं
पता नही कब दिन और कब रात होती है…



      edit

2 comments:

Post a Comment